Followers

Wednesday, November 5, 2008

पुनर्जन्म

जब भी मैं आइना देखती हूँ
चेहरे पर वक़्त की छाया देखती हूँ
गालों की इन लकीरों में छुपी
समय की गर्द को धीरे से छूती हूँ
उसे हटाने की नाकाम कोशिश करती हूँ
और बहुत दुखी होती हूँ

उम्र से लड़ते लड़ते मै हार गई
और सिलवटें चेहरे पर अपना घर बना गई
कुमारी से श्रीमती और श्रीमती से माँ के सफ़र में
मैं तो कहीं खो ही गई
अचानक
माँ माँ की आवाज़ से सोच टूटी मेरी
बेटी जो घुटनों तक आती थी
आज ऊँगली पकड़ बुलाती थी मेरी
व़क्त जो चेहरे पर झुर्रियाँ बना रहा था
वही मेरे ज़िगर के टुकडों की उमर भी बढ़ा रहा था
नन्ही हथेलियाँ अपनी लकीरें बना रहा थी
पर एक माँ के माथे पर
गर्व की एक और गाथा भी गा रही थी
इन्हे बड़ा होते देखने में जो खुशियाँ हैं
माँ के लिए तो वही उसकी सारी दुनिया है
मासूम आखों के आईने में
अपने खोये समय को देखती हूँ
छोटी होती हूँ, जवान होती हूँ और उमर दराज़ हो जाती हूँ
फिर से आइना देखती हूँ चेहरे की इन लकीरों को देखती हूँ
पर अब में खुश होती हूँ
क्योंकि इन रेखाओं में
अपनी आत्मा, अपने बच्चों को बड़ा होती देखती हूँ

10 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 04- 08 - 2011 को यहाँ भी है

नयी पुरानी हल चल में आज- अपना अपना आनन्द -

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

उम्र बढने के साथ ही माँ बनने का गेव ..बेटी के रूप में पुनर्जन्म बढ़िया लगी रचना ... अच्छी प्रस्तुति

Dr.Nidhi Tandon said...

सच कहा...बेटी ..माँ का पुनर्जन्म ही होती है...अपनी आँखों के आगे उसे बढते देखना ..अतुलनीय अनुभव है.अच्छी प्रस्तुति.

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत बढ़िया लगी आपकी यह पोस्ट।

सादर

Amrita Tanmay said...

सुन्दर प्रस्तुति

ana said...

sundar bhav liye hai aapki kavita.....nice post

रेखा said...

बहुत सुन्दर लिखा है आपने .......आभार

अनामिका की सदायें ...... said...

ye masoom aankhe hi to hoti hain jo jamane bhar ke dard bhula deti hain.

sunder abhivyakti.

Bhushan said...

हम ही नहीं हमारे साथ समय और अनुभव भी बड़ा होता रहता है. Good read.

Rachana said...

aapsabhi ka bahut bahut dhnyavad
sangeeta ji aapne meri is kavita ko pasand kiya aur iska link liya aapka dhnyavad kahun pr shbd chhota lag raha hai pr fir bhi dhnyavad
rachana