Followers

Monday, October 5, 2009

बारिश के ये दिन

जीवन में जो चीज हमसे दूर हो सदा उसकी कमी खलती है. बारिश, जो भारत में  साथ थी, यहाँ भी है पर दोनों में  बहुत अंतर है. बूंदों के संगीत पर थिरकने, सूरज की बादल संग आँख मिचौली देखने के पल अब हमारी हथेली में बंद नहीं है. पता नहीं समय हमारे साथ बह रहा है या मै समय के साथ पर एक क्षण को भी जो अतीत में झांक पाती हूँ ऐसा ही कुछ याद आता है-

उफ़ बारिश के ये दिन
पानी में  कश्ती बहाने
छपाक से दूसरो को भिगाने
रेन कोट पहने के सुन्दर बहाने 
छतरी लगा के इतराने के दिन
उफ़ ये बारिश के दिन
जब छत पर भीगा करते थे
बूंदों के संग अठकेलियाँ  कर
गीत नया गया करते थे
माँ कि डांट कि भी
कहाँ परवाह किया करतें थे
वो बेफिक्री के दिन
उफ़ ये बारिश के दिन
बारिश कि पहली फुहार से
उठती थी माटी कि खुशबु 
पूरी गलियां महक उठतीं
पत्ती पत्ती डाली डाली सजती
मन में  बसी है आज भी वो खुशबु
वो नरम गरम से दिन
उफ़ वो बारिश के दिन
रिमझिम फुहार के बाद
ठेले पर भुट्टे भुनवाना
भीगते हुए उनको खाना
याद है आज भी वो सोंधा  स्वाद
वो स्वादों के दिन
उफ़ ये बारिश के दिन
घिरते थे जो मेघ
मन में  सोचा करते थे
बरसे उमड़ घुमड़ इतना
के आजाये सड़कों पर पानी इतना
हो जाये रेनी डे 
 दुआं यही  माँगा करते थे
वो छुट्टी पाने के दिन 
उफ़ वो बारिश के दिन
रात में  बदल कि गड गड़ से
जब हम बहने डर जाया करते थे
पकड़ के एक दुसरे को
माँ को  बुलाया करते थे
वो माँ के संग सोने के दिन
उफ़ ये बारिश दिन
बारिश में जब जाती थी बिजली
टटोलते टटोलते मचिश , मोमबत्ती ढूँढा करते थे
फिर सारा घर इकठा होके
उस पिली हलकी रौशनी में
हंसते हंसते खाते और खाते खाते हंसते थे 
 फुर्सत के लम्हे पकड़
अन्ताक्षरी   खेला करते थे
वो अपनेपन के दिन
उफ़ ये बारिश के दिन
न वो सोंधी खुशबु है न माँ का साथ
न डर में  पकड़ने को बहन का हाथ
बरखा में  भीगने का समय भी अब कहाँ है
सब कुछ तो है यहाँ पर वो सुख कहाँ है
फुर्सत के पल भी नहीं,बूंदों को पकड़ने कि तम्मना भी नहीं
फिर भी है आज बारिश के दिन

8 comments:

Jaya said...

Dear Rachana,

very nice KAVITA...........

Best Wishes..............

JAYA SHAH

amita said...

bahut sunder kavita beete dino main le gai
amita

Anonymous said...

greetings rachana-merikavitayen.blogspot.com admin found your blog via yahoo but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have found website which offer to dramatically increase traffic to your site http://xrumerservice.org they claim they managed to get close to 1000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my blog. Hope this helps :) They offer best backlinks Take care. Jason

Anonymous said...

rachana-merikavitayen.blogspot.com Cash Advance LA Amelia यह निश्चित रूप से जीवन का एक महत्वपूर्ण कदम है कि चिंता और बड़ी उम्मीदों के साथ

Anonymous said...

rachana-merikavitayen.blogspot.com Payday Lenders SC Johns-Island आदेश में परिवर्तन शराब के साथ अपने रिश्ते के साथ मिलकर बनाने पर शुरू करने के लिए शराब मुक्त सामाजिक जीवन वेबसाइट पर जाएँ है कि आप जिस तरह के विशिष्ट तकनीक और उदाहरण जानने में अभी परिवर्तन कर देगा

Anonymous said...

Good day! I just would like to offer you a big thumbs up for the excellent information you have right here on this post. I'll be returning to your web site for more soon.

[url=http://onlinepokiesking4u.com]Jason: online pokies[/url]

Anonymous said...

Howdy! I simply want to give you a big thumbs up for your excellent info you have got here on this post. I'll be returning to your site for more soon.

[url=http://xrumergeek.com]seo services[/url]

Anonymous said...

You are so cool! I do not suppose I have read through anything like this before. So great to discover somebody with some genuine thoughts on this subject. Seriously.. thanks for starting this up. This website is one thing that's needed on the internet, someone with a bit of originality!

[url=http://truebluepokies4u.com]online pokies real money[/url]